“Petrol Pump Strike: ड्राइवरों की हड़ताल से Petrol Pump ठप! पेट्रोल पंपों का बंद होने से 4 दिनों तक तनाव, स्कूल और दफ्तर भी रहेंगे बंद, पूरा सच जानें”

Kamaljeet Singh

Petrol Pump Strike: शहर के ज्यादातर पेट्रोल पंपों पर चालकों की हड़ताल के कारण पेट्रोल और डीजल समाप्त हो गया है। चालकों ने पेट्रोल और डीजल के टैंकरों को चलाना बंद कर दिया है, जिससे पंपों तक ईंधन पहुंचा नहीं सका। यह हड़ताल 1 से 3 जनवरी तक के लिए है। इसके बारे में सोशल मीडिया पर एक वायरल लेटर भी है, जिसमें चालकों का संघ ने हड़ताल की घोषणा की है। केंद्र सरकार ने हिट एंड रन केस में एक नया कानून पास किया है, जिसके अनुसार दुर्घटना में मौत होने पर चालक को 10 साल की जेल और 5 लाख रुपए का जुर्माना होगा। चालक इसके खिलाफ हैं, हालांकि यह कानून सभी चालकों पर लागू होगा, जिनमें कार चालक भी शामिल हैं।

Petrol Pump Strike

सोमवार को दोपहर तक ज्यादातर पेट्रोल पंपों में पेट्रोल खत्म हो गया था, जो रात में शुरू हो सकता है। कलेक्टर इलैया राजा टी ने दोपहर के बाद सौ से अधिक टैंकरों को पुलिस सुरक्षा के साथ पंप तक पहुंचाया। शाम तक लोग पेट्रोल और डीजल की लंबी कतारों में खड़े थे। इस दौरान कई जगह ड्राइवर्स और पुलिस के बीच झड़प भी हुई। कई जगह बसों और ट्रकों को रोका गया और रास्ते भी जाम किए गए। इंदौर के गंगवाल बस स्टैंड और इंदौर देवास रोड को पूरी तरह से ड्राइवर्स ने बंद कर दिया था, जिसे पुलिस ने बाद में खुलवाया।

Petrol Pump Strike: पेट्रोल पंप चार दिन बंद रहने की बात कितनी सच?

ड्राइवर्स एसोसिएशन ने फैसला किया है कि एक से तीन जनवरी तक हड़ताल किया जाएगा। अब तो 2 जनवरी बीत चुका है और आगे एक दिन बचा है। इस समय में शहर के अधिकांश पेट्रोल पंपों में पेट्रोल खत्म हो गया है। कलेक्टर इलैया राजा टी ने खुद मोर्चा संभाला है और बताया है कि पेट्रोल और डीजल की सप्लाई को कहीं भी नहीं रोका जाएगा, ताकि लोगों को किसी भी परेशानी का सामना न करना पड़े।

Petrol Pump Strike

कलेक्टर के अनुसार, अब तक चार दिनों तक पेट्रोल पंपों को बंद रखने का निर्णय बिल्कुल गलत है। जो पेट्रोल पंपें दोपहर तक खुले रहे नहीं थे, वे अब चालू हो गए हैं और हम सभी पंपों में पेट्रोल पहुंचा रहे हैं।

मध्य प्रदेश पेट्रोल पंप डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सिंह ने बताया कि वे आयल कंपनियों और प्रशासन के साथ मिलकर डीलरों ने निजी टैंकरों से सप्लाई करने का कारण बनाया है। उन्होंने स्वीकार किया कि दो या तीन दिनों की सप्लाई को बनाए रखने में कुछ कठिनाई हो सकती है, लेकिन इस पर समाधान करने के लिए उनकी कोशिश जारी है।

Petrol Pump Strike: स्कूल कार्यालय भी बंद रहेंगे. क्या सच है?

अब हाल ही में सोशल मीडिया पर यह खबर फैल रही है कि कुछ स्कूल चार दिनों के लिए बंद रहेंगे। कई स्कूल ने पैरेंट्स को इसकी जानकारी भी दी है, लेकिन कलेक्टर ने ऐसे कोई आदेश नहीं जारी किया है। ऐसे में, स्कूल बंद करने का फैसला प्रबंधन से ही होना चाहिए। वहीं, कुछ लोग दफ्तर और अन्य कामकाज भी बंद रहेंगे की अफवाहें फैला रहे हैं, जो गलत है। सही जानकारी प्राप्त करने के लिए हमें सीधे स्रोत से जुड़ना चाहिए और स्कूल बंद करने का निर्णय स्कूल प्रबंधन से होना चाहिए।

Petrol Pump Strike: सभी प्रकार की बसें बंद, यात्री परेशान

सर्वटे बस स्टैंड के इंचार्ज दिनेश पटेल ने बताया कि आज यहां से संचालित होने वाली 425 से ज्यादा बसें नहीं चलीं। गंगवाल बस स्टैंड से 250 बसें और तीन इमली से संचालित होने वाली 200 से ज्यादा बसें भी आज नहीं चलीं। हड़ताल के कारण, देवास, उज्जैन, महू और आस-पास के शहरों से रोज अपडाउन करने वाले यात्रीयों को तकलीफ हो रही है। इंचार्ज ने बताया कि यात्री नहीं जाने का फैसला सोमवार सुबह से ही हुआ था, लेकिन बहुत से लोगों को इसकी खबर नहीं थी। जब वे बस स्टैंड पहुंचे, तो पता चला कि सभी बसें बंद हैं। वे अन्य बसों का इस्तेमाल करके जाने की कोशिश करने लगे, लेकिन सभी बंद थीं। इसके कारण, कई लोग अपने घर लौट गए, जबकि कुछ लोग अन्य वाहनों का सहारा लेकर गंतव्य की ओर बढ़े। इंदौर में 400 और बाहर 150 बसों का संचालन करने वाली AICTSL ने भी आज हड़ताल के कारण सेवाएं नहीं चलाईं।

Petrol Pump Strike: कलेक्टर ने दिए पेट्रोल, डीजल, LPG की आपूर्ति बाधित न होने के निर्देश

इंदौर जिले के अपर कलेक्टर गौरव बैनल ने एक बैठक का आयोजन किया है जिसमें ऑयल कंपनियों जैसे बीपीसीएल, आईओसीएल, एचपीसीएल, टैंकर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन, ड्राइवर यूनियन डिपो, पेट्रोल पंप डीलर्स एसोसिएशन, आरटीओ, पुलिस आदि शामिल हैं। इस बैठक में सभी से यह कहा गया है कि पेट्रोल, डीजल, एलपीजी की आपूर्ति को सुनिश्चित रखने के लिए सहयोग किया जाए।

ड्राइवर यूनियन और ट्रांसपोर्ट यूनियन को भी सुना गया है और उनकी भ्रांतियों को दूर करने के लिए उन्हें समझाया गया है। सभी को यह समझाया गया है कि किसी भी प्रकार का विरोध होने पर वह इसे लिखित में जिला प्रशासन को सूचित करें, ताकि उच्च स्तर पर उचित कार्रवाई हो सके।

Petrol Pump Strike: सौ से अधिक पेट्रोल डीजल टैंक भेजे

इंदौर ऑपरेटर और ट्रक एसोसिएशन के सीएल मुकाती ने भी स्पष्ट किया है कि कोई आधिकृत हड़ताल नहीं हो रही है। हम सभी को बताना चाहते हैं कि डीजल, पेट्रोल, और एलपीजी का परिवहन बिना किसी रुकावट के चल रहा है। आपकी सुविधा के लिए हम इसे निरंतर जारी रखने का प्रयास कर रहे हैं। इसके बाद, सभी ड्राइवर और टैंक लॉरी के ट्रांसपोर्टर काम पर वापस आ गए हैं। हम चाहते हैं कि आपको किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होनी चाहिए। हमने पेट्रोल और डीजल की आपूर्ति को बनाए रखने के लिए काम शुरू किया है और अब तक 100 से ज्यादा टैंकर ने इसे लेकर निकला है।

कलेक्टर डॉ इलैयाराजा टी. ने सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि पेट्रोल, डीजल, और एलपीजी की आपूर्ति में किसी भी तरह की बाधा नहीं होनी चाहिए, ताकि आपको कोई परेशानी ना हो।

Tata Nexon EV Max 2024 ने कर दिया brezza का काम तमाम, जानिए इस कार के सभी फीचर्स के बारे में।

Share This Article
Leave a comment