Justin Trudeau: “ट्रूडो का ‘खिलाफी तांडव’- अमेरिका से शह, भारत के खिलाफ क्यों हुआ उछलन?”

Kamaljeet Singh

Justin Trudeau: मुख्यमंत्री जस्टिन ट्रूडो(Justin Trudeau) ने एक बार फिर भारत के खिलाफ बयान दिया है, जिसमें उन्होंने खालिस्तानी आतंकवादियों की हत्या को लेकर अमेरिकी अभियोग को समर्थन दिखाया है। उनके अनुसार, इसका परिणाम है कि भारत-कनाडा संबंधों में बदलाव आ सकता है। ट्रूडो ने सीबीसी न्यूज चैनल को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा कि इस घटना के बाद अमेरिका ने नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) सरकार को शांति की दिशा में आगे बढ़ने के लिए राजी कर लिया है।

अमेरिका ने हाल ही में एक भारतीय नागरिक पर खालिस्तानी आतंकवादी और सिख फॉर जस्टिस के सरगना गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या के आरोप में कठपुतली बिछाई थी। इस पर ट्रूडो का कहना है कि यह अमेरिकी अभियोग ने भारत-कनाडा संबंधों में बदलाव की संभावना बढ़ा दी है।

Justin Trudeau: ट्रूडो ने भारत के बारे में क्या कहा?

कनाडा के प्रधानमंत्री ने कहा, “मुझे ऐसा लगता है कि एक समझौते की शुरुआत हो रही है जिससे वे अपने रास्ते में कोई बदलाव नहीं कर सकते और इस तरह से सहयोग करने का एक संकेत है कि शायद पहले वे कुछ कम खुले थे।” उन्होंने यह भी कहा, “ऐसा लगता है कि कनाडा के खिलाफ लगातार हमले से यह समस्या दूर नहीं होगी।” सितंबर में, ट्रूडो ने कनाडाई संसद में बताया था कि खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारत की संलिप्तता के संभावित आरोप हैं। हालांकि, भारत ने इसे कुछ घंटों में ही “बेतुका और प्रेरित” कहकर खारिज कर दिया था।

Justin Trudeau: भारत के साथ काम करने की जताई इच्छा

ट्रूडो ने कहा कि उन्हें लगता है कि कनाडा को अभी भारत के साथ झड़प करने की जरूरत नहीं है, खासकर निज्जर की हत्या के मामले में। उन्होंने इसके बजाय व्यापार समझौतों और इंडो-पैसिफिक रणनीति को बढ़ावा देने का आलंब किया है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा है कि कनाडा के लिए महत्वपूर्ण है कि वे लोगों के अधिकार, सुरक्षा और कानून के प्रभावी पालन के लिए कड़ी मेहनत करेंगे और इस पर ध्यान देंगे।

Justin Trudeau

Justin Trudeau: भारत ने अमेरिकी आरोप पर बनाई कमेटी

भारत ने अमेरिकी सरकार द्वारा उठाई गई सुरक्षा समस्याओं पर ध्यान देने के लिए एक उच्चस्तरीय जांच समिति बनाई है। उसने कहा कि यह केवल विशिष्ट और प्रासंगिक जानकारी मांग रहा है ताकि कनाडाई जांचकर्ताओं को मदद मिल सके।

भारत ने कनाडा से निज़ार की हत्या के मामले में ट्रूडो के आरोपों का समर्थन किया है और कहा है कि उन्हें “ठोस सबूत” चाहिए। ट्रूडो ने कहा कि नई दिल्ली को आरोप को “गंभीरता से” लेने की जरूरत है और उन्होंने जांच में मदद करने का साथ दिया।

Justin Trudeau: पीएम मोदी ने भारत-अमेरिका संबंधों को बताया मजबूत

अपने पहले सार्वजनिक जवाब में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को फाइनेंशियल टाइम्स से कहा कि वह अमेरिकी आरोपों की जांच करेंगे, लेकिन यह सुनिश्चित कर दिया कि भारत और अमेरिका के बीच के संबंध प्रभावित नहीं होंगे। मोदी ने कहा, “अगर हमें कोई जानकारी मिलती है, तो हम उसे ध्यान से देखेंगे। अगर हमारे नागरिकों में से कोई कुछ करता है, चाहे वह अच्छा हो या बुरा, तो हम उसे निगरानी में रखने के लिए तैयार हैं। हम क़ानून का पूरी तरह से पालन करेंगे।”

Justin Trudeau: ट्रूडे के बयान पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने क्या कहा

भारत के विदेश मंत्रालय ने ट्रूडो के बयान पर ऐतराज़ करा, कहते हुए, “कनाडा ने हमेशा भारत के खिलाफ चरमपंथी और हिंसा को समर्थन दिया है। इसी बारहमासा मुद्दे पर उनका बयान है।” पिछले सप्ताह ट्रूडो ने कहा था कि निज्जर के हमले में भारतीय एजेंट्स को जोड़ने का मकसद यह था कि भारत इस प्रकार की कार्रवाई से बचें। उन्होंने कहा कि इससे हमें यह संकेत मिलता है कि भारत ऐसा कुछ ना करे, क्योंकि कई कनाडियन अपनी सुरक्षा के लिए चिंतित हैं।

Share This Article
Leave a comment